Learn how the World Bank Group is helping countries with COVID-19 (coronavirus). Find Out

प्रेस विज्ञप्ति

विश्व बैंक ग्रुप के अध्यक्ष ज़ोएल्लिक की भारत यात्रा

9 जनवरी, 2011



नई दिल्ली, 9 जनवरी, 2011: विश्व बैंक ग्रुप के अध्यक्ष रॉबर्ट बी. ज़ोएल्लिक भारत की चार-दिवसीय यात्रा पर कल यहां पहुंच रहे हैं। इस यात्रा का उद्देश्य भारत के साथ सहयोग को सुदृढ़ करना है, जिसका लक्ष्य अपनी जनता को बेहतर अवसंरचना तथा कारगर सामाजिक सेवाएं सुलभ कराने के लिए संवृद्धि को गतिशील बनाना है।

रॉबर्ट ज़ोएल्लिक ने कहा है, "भारत की संवृद्धि (ग्रोथ) की ऊंची दरों पर वापसी से विश्व की अर्थव्यवस्था को संकट से उबरने में मदद मिल रही है। हालांकि विकासशील देश वैश्विक संवृद्धि का एक प्रमुख माध्यम रहे हैं, विकसित और विकासशील दोनों ही देशों के लिए चुनौतियां मौजूद हैं। इन चुनौतियों का सामना करने के लिए हम अपने भागीदारों के साथ मिलकर काम करेंगे।"
 
"भारत विश्व मंच पर प्रमुख भूमिका निभाने वाले देशों मे से है। एक उभरती हुई आर्थिक शक्ति के रूप देश की स्थिति का इस बात से गहरा संबंध है कि यह संवृद्धि के अगले चरण का प्रबंध किस प्रकार करेगा, जिसमें गतिशील विकास तथा पर्यावरण के बीच संतुलन स्थापित करने के साथ-साथ यह भी सुनिश्चित करना होगा कि सभी लोगों को आगे बढ़ने के अवसर मिलें।"

उन्होंने कहा, जैसे-जैसे भारत करोड़ों लोगों के जीवन में सुधार लाने का प्रयास कर रहा है, जिनमें से एक-तिहाई बेहद ग़रीब हैं, विशेष रूप से अपने अवसंरचना और मानव विकास-संबंधी महत्त्वाकांक्षी कार्यक्रमों के वित्त-पोषण से संबंधित इसकी आवश्यकताएं तेज़ी से बढ़ रही हैं।

बैंक के अध्यक्ष, जिन्होंने पिछली बार दिसम्बर 2009 में भारत की यात्रा की थी, ने कहा है, "विस्तृत होती अर्थव्यवस्था के फलस्वरूप मिलने वाले अवसरों से लाभ उठाने में अत्यंत अभावग्रस्त लोगों की मदद करते हुए हम संवृद्धि को और बढ़ावा देने की सरकार की रणनीति का समर्थन करते हैं।"

इस सप्ताह अपनी यात्रा के दौरान रॉबर्ट ज़ोएल्लिक प्रधानमंत्री, वित्त मंत्री और योजना आयोग के उपाध्यक्ष समेत सरकार के नेताओं से मिलेंगे, ताकि वे अच्छी तरह समझ सकें कि बारहवीं पंचवर्षीय योजना की ओर कदम बढ़ाते हुए विकास-संबंधी अपनी प्राथमिकताओं को पूरा करने में भारत के लिए विश्व बैंक किस तरह उपयोगी हो सकता है। प्रधानमंत्री और सरकार के साथ बातचीत में, जिसमें ग्रुप-20 की आगामी बैठक के लिए तैयारियां भी शामिल हैं, भूमंडलीय मामलों में सहयोग भी शामिल होगा। विश्व बैंक और भारत जलवायु-परिवर्तन, वन्य-टाइगर के संरक्षण समेत जैव-विविधता, व्यापार और क्षेत्रीय एकीकरण पर मिलकर काम कर रहे हैं।

रॉबर्ट ज़ोएल्लिक ने कहा, "जैसे-जैसे भारत विकास-संबंधी चुनौतियों का सामना करने के लिए अपने प्रयास तेज़ कर रहा है, विश्व बैंक ग्रुप यह पता लगाने के लिए प्रतिबद्ध है कि भारत में किस प्रकार नई भूमंडलीय भागीदारियां स्थापित करने में वित्तीय संसाधनों और जानकारी (नॉलेज रिसोर्सेज़) का सदुपयोग किया जा सकता है।"

सरकार के विकास-संबंधी लक्ष्यों को समर्थन देने के अपने लक्ष्य के अनुरूप भारत में विश्व बैंक की 70 से अधिक परियोजनाओं पर काम चल रहा है, जिनमें अवसंरचना जैसे महत्त्वपूर्ण क्षेत्र में कई विशाल परियोजनाएं भी शामिल हैं। इस यात्रा के दौरान विश्व बैंक अध्यक्ष की उपस्थिति में सड़क और आपदा-प्रबंधन के क्षेत्रों में दो नई परियोजनाओं पर हस्ताक्षर होंगे और वे निजी क्षेत्र के प्रतिनिधियों, स्वरोजगार में संलग्न महिलाओं की एसोसिएशन तथा शहरी और ग्रामीण जल-विशेषज्ञों से भी मिलेंगे। वे बिहार भी जाएंगे, जहां विश्व बैंक कोसी में आई बाढ़ से प्रभावित इलाकों के लिए पुनर्वास कार्यक्रम में राज्य सरकार की मदद कर रहा है।

विश्व बैंक ग्रुप ने पिछले वर्ष भूमंडलीय आर्थिक संकट का प्रभाव घटाने के लिए भारत को दी जाने वाली सहायता में उल्लेखनीय वृद्धि की थी। बैंक समूह ने जून 2010 में समाप्त हुए अपने पिछले वित्त वर्ष में भारत को 11.1 अरब अमरीकी डॉलर की रिकार्ड धनराशि मुहैया कराने की वचनबद्धता की थी। इतने बड़े स्तर पर यह वित्तीय सहायता पूंजी बाज़ार को विश्व में आर्थिक मंदी के धीमेपन के असर से बचाने, अवसंरचना का समर्थन करने और आवश्यक सामाजिक सेवाओं की डिलीवरी जारी रखने के लिए भारत के अनुरोध के प्रत्युत्तर में मुहैया कराई गई थी।

उक्त रिकार्ड धनरशि में निर्धनतम लोगों के लिए विश्व बैंक के कोष – इंटरनेशनल डेवलपमेंट एसोसिएशन - से 2.6 अरब अमरीकी डॉलर के ब्याज-रहित क्रेडिट, विश्व बैंक की मध्यम आय वाले देशों को ऋण सुलभ कराने वाली इकाई इंटरनेशनल बैंक फ़ॉर रिकंस्ट्रक्शन एंड डेवलपमेंट से दीर्घकालिक ऋण के तौर पर कम ब्याज पर 6.7 अरब अमरीकी डॉलर का ऋण और बैंक की निजी क्षेत्र की इकाई इंटरनेशनल फ़ाइनैंस कार्पोरेशन से 1.8 अरब अमरीकी डॉलर की धनराशि शामिल थी।

 

मीडिया संपर्क
में दिल्ली
नन्दिता रॉय
टेलिफ़ोन: (91-11) 4147 9220
nroy@worldbank.org
में वाशिंगटन
बेंजामिन एस. क्रो
टेलिफ़ोन: (202) 458 4735
bcrow@worldbank.org



Api
Api